Friday, December 4, 2020
Home बिहार पुलिस ट्रेनिंग Explosive Act 1884 तथा Explosive Substance Act 1908 मैं क्या अंतर है?

Explosive Act 1884 तथा Explosive Substance Act 1908 मैं क्या अंतर है?

Difference between Explosive Act 1884 and Explosive Substance Act 1908:

Explosive Act 1884Explosive Substance Act 1908
1. संपूर्ण भारत में लागू है.1. यह संपूर्ण भारत एवं बाहर रहने वाले सभी भारतीय नागरिक पर लागू है.
2. अधिकतम दंड का प्रावधान 3 वर्ष है.2. अधिकतम दंड मृत्यु दंड है.
3. अभियोजन की स्वीकृति लेना अनिवार्य नहीं.3. इसमें अभियोजन की स्वीकृति लेना अनिवार्य है.
4. विस्फोटक के निर्माण, कब्ज़ा, आयात-निर्यात, विक्रय एवं परिवहन को विनियमित रखने हेतु अनुज्ञप्ति के उल्लंघन के लिए दंड का प्रावधान है4. अवैध रूप से विस्फोटक पदार्थ बनाने, रखने एवं विधि विरुद्ध विशेषकर जान-माल / जीवन एवं संपत्ति को नुकसान पहुंचाने से रोकने के उद्देश्य से बनाया गया है.
5. परिभाषा section 4(d) में है.5. परिभाषा section 2(a) में है.

हमारा टेलीग्राम चैनल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

[सिलेबस] गणित (वैकल्पिक विषय)

बिहार लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम - गणित (वैकल्पिक विषय) खण्ड I तथा खण्ड II में से किसी एक खण्ड से तीन से अधिक प्रश्नों के उत्तर नहीं देने होंगे। खण्ड- I (Section - I) रैखिक...

Explosive Act 1884 तथा Explosive Substance Act 1908 मैं क्या अंतर है?

Difference between Explosive Act 1884 and Explosive Substance Act 1908: Explosive Act 1884Explosive Substance Act 19081. संपूर्ण भारत में लागू है.1. यह संपूर्ण भारत एवं बाहर रहने वाले सभी भारतीय नागरिक पर लागू है.2. अधिकतम दंड का प्रावधान 3 वर्ष है.2. अधिकतम...

Results: 64th Combined Main (Written) Competitive Examination.

Results: 64th Combined Main (Written) Competitive Examination. : http://bpsc.bih.nic.in/Advt/NB-2020-07-16-01.pdf नोटिस के लिए यहाँ क्लिक करें BPSC वेबसाइट के लिए यहाँ क्लिक करें

नेहरू के सामाजिक राजनैतिक और आर्थिक चिंतन का विवरण दें.

स्वाधीन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री के रूप में आधुनिक भारत के स्वतंत्र विकास की दिशा में जवाहरलाल नेहरू ने काफी कार्य किया जो कि सराहनीय है । शोषण से मुक्त एक नए भारत के निर्माण के लिए और साम्राज्यवाद के उत्पीड़न से मुक्त एक नए विश्व के...