बिहार की जलवायु (Climate of Bihar)

बिहार प्रदेश के भौगोलिक अध्ययन में जलवायु एक महत्वपूर्ण कारक है यह बिहार की प्राकृतिक वनस्पति जीव जंतु मिट्टी इत्यादि को प्रभावित करती है।

भारत के पूर्वी भाग में स्थित बिहार की जलवायु उष्ण आद्र् मानसूनी है। बिहार पश्चिम बंगाल की उष्ण आर्द्र और उत्तर प्रदेश की उपार्द्र जलवायु के बीच एक संक्रमण प्रदेश है। उत्तर पूर्व में पूर्णिया प्रमंडल की जलवायु पश्चिम बंगाल जैसी है जबकि पश्चिम में पटना और मगध प्रमंडलओं की जलवायु बहुत हद तक पूर्वी उत्तर प्रदेश से मिलती है।

अक्षांशीय विस्तार की दृष्टि से उपोष्ण कटिबंध में पड़ने के बावजूद भी यहां की जलवायु अपेक्षाकृत गर्म है। वर्ष के विभिन्न खंडों में पवनों का रितुवत् विपरीत दिशाओं में परिचालन, दीर्घ शुष्क काल एवं सामान्य वर्षा काल यहां की खास जलवायविक विशेषताएं हैं। बिहार की जलवायु की दशाओं में क्षेत्रीय भिन्नता पाई जाती हैं।

बिहार की जलवायु को प्रभावित करने वाले कारक हैं-
1.स्थिति
2.ऊंचाई
3.समुद्र से दूरी
4.वायुदाब
5.पवनें
6.मानसूनी प्रवाह

7.सामयिक चक्रवात
8.वानस्पतिक आवरण
9.स्थानीय तत्व

बिहार की ऋतुएं:-

  1. ग्रीष्म ऋतु- मार्च से मध्य जून तक
  2. वर्षा ऋतु – मध्य जून से अक्टूबर तक
  3. शीत ऋतु- नवंबर से फरवरी तक

Ananya Swaraj
Assistant Professor

सम्बंधित लेख →

लोकप्रिय