Home BPSC साक्षात्कार साक्षात्कार प्रश्नोत्तर रेंट एग्रीमेंट 11 महीने के लिए क्यों होता है? 12 महीने का...

रेंट एग्रीमेंट 11 महीने के लिए क्यों होता है? 12 महीने का क्यों नहीं होता?

आप देश के किसी भी कोने में चले जाइए। मकान मालिक को कितना भी स्पष्ट बता दीजिए कि आप उसका मकान कितनी समय अवधि के लिए किराए पर लेने वाले हैं परंतु वह हमेशा 11 महीने का रेंट एग्रीमेंट बनवाता है। प्रश्न यह है कि रेंट एग्रीमेंट 11 महीने के लिए ही क्यों बनाया जाता है?

रेंट एग्रीमेंट क्या होता है क्यों बनाया जाता है

रेंट एग्रीमेंट को लीज एग्रीमेंट भी कहते है। यह मकानमालिक और किराएदार के बीच में लिखित अनुबंध होता है। इस अनुबंध पत्र में में दोनों पक्षों की शर्तें लिखी होती है। इसके अलावा संपत्ति की पूरी जानकारी भी होती है। जैसे कि मकान का एड्रेस, मकान का साइज, मासिक किराया, सिक्यूरिटी डिपॉजिट और जिस काम के लिए प्रॉपर्टी को किराए पर दिया जा रहा है। इस प्रकार दोनों पक्षों को एक दूसरे के बारे में दस्तावेजी साक्ष्य प्राप्त हो जाता है। ऐसी स्थिति में यदि कोई एक पक्ष अनुबंध की शर्तों को तोड़ता है तो एग्रीमेंट के जरिए न्यायालय दूसरे पक्ष की रक्षा करती है।

रेंट एग्रीमेंट 11 महीने से ज्यादा का क्यों नहीं होता 

कानून की किसी भी किताब में प्रॉपर्टी लीज एग्रीमेंट या जिसे सामान्य बोलचाल की भाषा में रेंट एग्रीमेंट कहते हैं, की अवधि के बारे में कुछ भी नहीं लिखा। रेंट एग्रीमेंट 1 महीने के लिए भी हो सकता है और 11 साल के लिए भी परंतु ज्यादातर लोग इसे 11 महीने के लिए बनाते हैं। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण यह है कि यदि प्रॉपर्टी लीज एग्रीमेंट को 11 महीने से ज्यादा अवधि के लिए तैयार किया जाएगा तो फिर इसे रजिस्ट्रार कार्यालय में रजिस्टर्ड भी कराना होगा। सभी राज्यों में इसके लिए काफी टैक्स लिया जाता है। बस इसी टेक्स को बचाने के लिए रेंट एग्रीमेंट अधिकतम 11 महीने के लिए बनाया जाता है। 

रेंट एग्रीमेंट 11 महीने से कम अवधि के लिए क्यों नहीं बनाते

अब सवाल यह है कि 11 महीने से कम अवधि के लिए क्यों नहीं बनाया जाता। इसका सरल जवाब यह है कि रेंट एग्रीमेंट टाइप करने वाले ऑपरेटर अपने पास एक फिक्स फॉर्मेट रखते हैं। दोनों पक्षों के नाम एवं संपत्ति की जानकारी इत्यादि भरने के बाद प्रिंट निकाल देते हैं। यदि आप एग्रीमेंट की शर्तों या समय अवधि में संशोधन करने की बात करेंगे तो वह आपसे ज्यादा फीस चार्ज करेगा। इसीलिए एग्रीमेंट 11 महीने के लिए बनाया जाता है।

हमारा सोशल मीडिया

29,615FansLike
25,786SubscribersSubscribe

Must Read

आभासी लेकिन कामयाब अदालतें (हिन्दुस्तान)

वर्चुअल कोर्ट, यानी आभासी अदालतों को स्थाई रूप देने के प्रस्ताव पर मिश्रित प्रतिक्रिया आई है। कुछ लोग इसमें असीम संभावनाएं देख रहे...

अहम उप-चुनाव (हिन्दुस्तान)

आम तौर पर किसी उप-चुनाव को लेकर संबंधित निर्वाचन क्षेत्र के बाहर बहुत दिलचस्पी नहीं होती, क्योंकि उसका राजनीतिक प्रभाव भी सीमित होता...

तमिलनाडु : सजने लगा चुनावी चौसर (हिन्दुस्तान)

तमिलनाडु की मौजूदा राजनीति में यदि किसी व्यक्ति की कामयाबी देखने लायक है, तो वह मुख्यमंत्री ई के पलानीसामी ही हैं। वह न...

Related News

आभासी लेकिन कामयाब अदालतें (हिन्दुस्तान)

वर्चुअल कोर्ट, यानी आभासी अदालतों को स्थाई रूप देने के प्रस्ताव पर मिश्रित प्रतिक्रिया आई है। कुछ लोग इसमें असीम संभावनाएं देख रहे...

अहम उप-चुनाव (हिन्दुस्तान)

आम तौर पर किसी उप-चुनाव को लेकर संबंधित निर्वाचन क्षेत्र के बाहर बहुत दिलचस्पी नहीं होती, क्योंकि उसका राजनीतिक प्रभाव भी सीमित होता...

तमिलनाडु : सजने लगा चुनावी चौसर (हिन्दुस्तान)

तमिलनाडु की मौजूदा राजनीति में यदि किसी व्यक्ति की कामयाबी देखने लायक है, तो वह मुख्यमंत्री ई के पलानीसामी ही हैं। वह न...

एक सेवा अनेक शुल्क  (हिन्दुस्तान)

भारतीय रेल सेवा के लिए यात्रियों को पहले की तुलना में न केवल ज्यादा खर्च करना पड़ेगा, बल्कि कुछ सेवाओं में कटौती भी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here