Home BPSC साक्षात्कार साक्षात्कार प्रश्नोत्तर चलती ट्रेन में उड़ती मक्खी दीवार से क्यों नहीं टकराती?

चलती ट्रेन में उड़ती मक्खी दीवार से क्यों नहीं टकराती?

मक्खी को घर में हवा उड़ते हुए आपने कई बार देखा होगा। कभी-कभी आपने ट्रेन के अंदर मक्खी को उड़ते हुए देखा होगा। प्रश्न यह है कि 100 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से दौड़ रही ट्रेन के अंदर मक्खी आसानी से यहां वहां कैसे उड़ जाती है। जब वह एक जगह से दूसरी जगह के लिए उड़ान भरती है तो उसका संतुलन क्यों नहीं बिगड़ता वह किसी दीवार से क्यों नहीं टकरा जाती। आइए इस मजेदार सवाल का जवाब तलाशते हैं।

सबसे पहले गति की सापेक्षता के नियम को समझिए

हम जब ट्रेन में बैठे होते हैं और ट्रेन 100 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ रही होती है, उस उस स्थिति में ट्रेन की गति भूमि के सापेक्ष 100 किलोमीटर प्रति घंटा होती है, परंतु उसके भीतर बैठे हुए व्यक्ति के सापेक्ष ट्रेन के डिब्बे की गति शून्य होती है, क्योंकि वह व्यक्ति ट्रेन के डिब्बे के भीतर बैठा है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उस व्यक्ति और ट्रेन के डिब्बे के बीच समय के साथ साथ कोई परस्पर विस्थापन नहीं हो रहा है। इसीलिए उस व्यक्ति के सापेक्ष ट्रेन की गति शून्य है, इसीलिए आपने देखा होगा कि भले ही ट्रेन 100 की रफ्तार पर दौड़ रही हो, परंतु उसके बावजूद हम लोग उसके अंदर आसानी से चल पाते हैं, बल्कि सिर्फ ट्रेन ही क्यों, जब हम लोग फ्लाइट में होते हैं और हवाई जहाज 900 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ रहा होता है उस स्थिति में भी हम लोग बड़ी आसानी से विमान के अंदर चलते हुए टॉयलेट तक चले जाते हैं या एयर होस्टेस आराम से चलते फिरते अपनी ड्यूटी कर पाती है। ऐसा सब कुछ केवल गति की सापेक्षता के नियम के कारण होता है। 

जिस तरह यात्री पैदल चल सकता है उसी तरह मक्खी आसानी से उड़ सकती है

अब जो नियम एक आदमी के लिए काम करता है वही नियम एक छोटी सी मक्खी के लिए भी काम करता है, इसीलिए एक छोटी सी मक्खी जो किसी कारणवश ट्रेन के या विमान के भीतर आकर बैठी है। वह छोटी सी मक्खी भी आराम से इधर-उधर उड़ती रहती है और ट्रेन की अथवा विमान की दीवारों से नहीं टकराती है। 

क्योंकि मक्खी ट्रेन के संपर्क में नहीं होती

मक्खी का ट्रेन से संपर्क न रहने पर भी हवा के संपर्क में रहने से उस पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है क्योंकि ट्रेन के अंदर की हवा भी उसी गति से चल रही होती है जिस गति से ट्रेन चल रही होती है। इस लिये वह ट्रेन से नहीं टकरा पाती है। यदि वह खिड़की से बाहर निकल जायेगी तेज़ी से पीछे चली जायेगी क्योंकि वह अपनी उड़ने की गति ट्रेन की गति के समान नहीं रख पायेगी। 

सरल शब्दों में तीसरा तर्क यह है 

इस मामले में एक तीसरा तर्क भी है। सबसे पहली बात यह कि मक्खी जब ट्रेन के अंदर उड़ती है तो उसका गुरुत्वाकर्षण बदल जाता है। ट्रेन के डिब्बे की जमीन उसका गुरुत्वाकर्षण आधार होती है। दूसरी महत्वपूर्ण बात है कि एक मक्खी जब जान पर बनाए तो 80 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से दौड़ सकती है। क्योंकि ट्रेन 100 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से दौड़ रही होती है लेकिन ट्रेन के बोगी के अंदर हवा का वेग 100 किलोमीटर प्रति घंटा नहीं होता इसलिए भी मक्खी आसानी से यहां वहां उड़ती रहती है। ट्रेन की बोगी के अंदर यदि आप क्रिकेट बॉल उछालेंगे तो वह भी वापस आपके हाथ में ही आएगी, किसी दीवार से नहीं टकराएगी। 

हमारा सोशल मीडिया

29,588FansLike
25,786SubscribersSubscribe

Must Read

सितारों से आगे जहां और भी हैं (हिन्दुस्तान)

आज से सौ साल बाद यदि कोई शोध छात्र 21वीं शताब्दी के कोरोनाग्रस्त भारत पर शोध करना चाहेगा, तो उसे अद्भुत आश्चर्य का...

ताकि और गर्व से कहें, हम बिहारी हैं (हिन्दुस्तान)

पिछले दो सप्ताह से अभिनेता मनोज वाजपेयी द्वारा गाया गया एक रैप गीत बम्बई में का बा  दिलो-दिमाग में गूंज रहा है। यू...

बिहार में चुनाव  (हिन्दुस्तान)

बिहार विधानसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही हमारा लोकतंत्र एक नए दौर में प्रवेश कर गया। राजनीतिक रूप से बहुत महत्व रखने...

नदियों को बांधने की कीमत (हिन्दुस्तान)

बिहार की बागमती नदी से बाढ़-सुरक्षा दिलाने की बात एक बार फिर चर्चा में है। यह नदी काठमांडू से करीब 16 किलोमीटर उत्तर-पूर्व...

Related News

सितारों से आगे जहां और भी हैं (हिन्दुस्तान)

आज से सौ साल बाद यदि कोई शोध छात्र 21वीं शताब्दी के कोरोनाग्रस्त भारत पर शोध करना चाहेगा, तो उसे अद्भुत आश्चर्य का...

ताकि और गर्व से कहें, हम बिहारी हैं (हिन्दुस्तान)

पिछले दो सप्ताह से अभिनेता मनोज वाजपेयी द्वारा गाया गया एक रैप गीत बम्बई में का बा  दिलो-दिमाग में गूंज रहा है। यू...

बिहार में चुनाव  (हिन्दुस्तान)

बिहार विधानसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही हमारा लोकतंत्र एक नए दौर में प्रवेश कर गया। राजनीतिक रूप से बहुत महत्व रखने...

नदियों को बांधने की कीमत (हिन्दुस्तान)

बिहार की बागमती नदी से बाढ़-सुरक्षा दिलाने की बात एक बार फिर चर्चा में है। यह नदी काठमांडू से करीब 16 किलोमीटर उत्तर-पूर्व...

फिर आंदोलित किसान (हिन्दुस्तान)

संसद से पारित कृषि विधेयकों के खिलाफ आंदोलित पंजाब के किसानों के निशाने पर कल से ही रेल सेवाएं आ गई हैं, इसके...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here