Home BPSC साक्षात्कार साक्षात्कार प्रश्नोत्तर मच्छर शाम के समय सिर के ऊपर क्यों भिनभिनाते हैं?

मच्छर शाम के समय सिर के ऊपर क्यों भिनभिनाते हैं?

आपने अक्सर देखा होगा शाम को अंधेरा होने के बाद यदि आप घर के बाहर खड़े हैं तो अचानक आपके सिर के ऊपर बहुत सारे मच्छर झुंड बनाकर भिनभिनाने लगते हैं। सवाल यह है कि मच्छर सिर की त्वचा में डंक मार कर खून नहीं पी सकता, तो फिर वह सिर के ऊपर झुंड बनाकर क्यों उड़ता रहता है। आइए इस प्रश्न का उत्तर पता करने की कोशिश करते हैं।

नर नहीं, मादा मच्छर इंसान का खून पीते हैं 

दुनिया कि ज्यादातर मादाएं शांतिप्रिय होती है और प्रेम एवं वात्सल्य का प्रतीक होती हैं परंतु मादा मच्छर का स्वभाव इससे बिल्कुल अलग होता है। क्या आप जानते हैं नर मच्छर इंसान को नुकसान नहीं पहुंचाता बल्कि मादा मच्छर इंसान के खून की प्यासी होती है। मादा मच्छर ही रात के समय इंसानों पर हमला करती है और खून पीती है। ऐसा वह उस समय सबसे ज्यादा करती है जब वह गर्भवती होती है। 

मच्छर शाम के समय सिर के ऊपर झुंड बनाकर क्यों उड़ते हैं 

इस प्रश्न में सबसे ज्यादा ध्यान देने वाली बात है ‘ शाम का समय’। यदि आप उसी स्थान पर दूसरे दिन सुबह जाकर खड़े हो जाएं तो मच्छर आपके सिर पर झुंड बनाकर नहीं आएंगे, लेकिन शाम को ऐसा होगा। यह इसलिए होता है क्योंकि मादा मच्छर को इंसान के पसीने की बदबू बहुत पसंद है। आपके पसीने से निकलने वाली बदबूदार गैस कार्बन डाइऑक्साइड से मिलकर ऊपर की तरफ जाती है। स्वाभाविक है यह आपके सिर के चारों तरफ या फिर दाएं-बाएं से ऊपर की तरफ जा रही हो। यदि आपके बालों में गंदगी है तो फिर इस तरह की गैस और अधिक मात्रा में उत्सर्जित होगी। मादा मच्छर इन्हीं जहरीली गैसों के नशे में झूमते रहते हैं। और आपको लगता है कि यह आपके सर के ऊपर हैं।

हमारा सोशल मीडिया

29,619FansLike
25,786SubscribersSubscribe

Must Read

एक बड़े फैसले के अनेक पहलू  (हिन्दुस्तान)

फैसला नया है, लेकिन कई जरूरी पुरानी यादें ताजा हो गई हैं।16वीं सदी में मुगल बादशाह बाबर के दौर में बनी बाबरी मस्जिद...

अदालती निर्णय के बाद  (हिन्दुस्तान)

var w=window;if(w.performance||w.mozPerformance||w.msPerformance||w.webkitPerformance){var d=document;AKSB=w.AKSB||{},AKSB.q=AKSB.q||,AKSB.mark=AKSB.mark||function(e,_){AKSB.q.push()},AKSB.measure=AKSB.measure||function(e,_,t){AKSB.q.push()},AKSB.done=AKSB.done||function(e){AKSB.q.push()},AKSB.mark("firstbyte",(new...

आभासी लेकिन कामयाब अदालतें (हिन्दुस्तान)

वर्चुअल कोर्ट, यानी आभासी अदालतों को स्थाई रूप देने के प्रस्ताव पर मिश्रित प्रतिक्रिया आई है। कुछ लोग इसमें असीम संभावनाएं देख रहे...

अहम उप-चुनाव (हिन्दुस्तान)

आम तौर पर किसी उप-चुनाव को लेकर संबंधित निर्वाचन क्षेत्र के बाहर बहुत दिलचस्पी नहीं होती, क्योंकि उसका राजनीतिक प्रभाव भी सीमित होता...

Related News

एक बड़े फैसले के अनेक पहलू  (हिन्दुस्तान)

फैसला नया है, लेकिन कई जरूरी पुरानी यादें ताजा हो गई हैं।16वीं सदी में मुगल बादशाह बाबर के दौर में बनी बाबरी मस्जिद...

अदालती निर्णय के बाद  (हिन्दुस्तान)

var w=window;if(w.performance||w.mozPerformance||w.msPerformance||w.webkitPerformance){var d=document;AKSB=w.AKSB||{},AKSB.q=AKSB.q||,AKSB.mark=AKSB.mark||function(e,_){AKSB.q.push()},AKSB.measure=AKSB.measure||function(e,_,t){AKSB.q.push()},AKSB.done=AKSB.done||function(e){AKSB.q.push()},AKSB.mark("firstbyte",(new...

आभासी लेकिन कामयाब अदालतें (हिन्दुस्तान)

वर्चुअल कोर्ट, यानी आभासी अदालतों को स्थाई रूप देने के प्रस्ताव पर मिश्रित प्रतिक्रिया आई है। कुछ लोग इसमें असीम संभावनाएं देख रहे...

अहम उप-चुनाव (हिन्दुस्तान)

आम तौर पर किसी उप-चुनाव को लेकर संबंधित निर्वाचन क्षेत्र के बाहर बहुत दिलचस्पी नहीं होती, क्योंकि उसका राजनीतिक प्रभाव भी सीमित होता...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here