Home BPSC प्रारंभिक परीक्षा भारत का भूगोल राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA)

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA)

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण राष्ट्रीय स्तर पर आपदाओं से निपटने एवं प्रबंधन की दृष्टि से सर्वोच्च संस्था हैं जो आपदाओं के आने के पूर्व एवं आपदाओं के आने के बाद दोनों दोनों स्तर के संबंधित रणनीति बनाने एवं उसके क्रियान्वयन के लिए जिम्मेदार है।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (National disaster Management Authority) क्या है

यह आपदा प्रबंधन से संबंधित सर्वोच्च संस्था है जो आपदा प्रबंधन के लिए नीतियों, योजनाओं को दिशा निर्देशित करने के साथ नियत समय पर प्रभावी प्रतिक्रिया सुनिश्चित करती है। गुजरात की भूकंप के बाद बड़े स्तर पर आपदा प्रबंधन के लिए समर्पित प्राधिकरण की आवश्यकता महसूस की गई, जो विभिन्न स्तर पर कार्यों का समन्वय करते हुए आपदा प्रबंधन के दिशा में कारगर कार्य कर सकें| इसी की परिणति के रूप में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का गठन किया गया| इसे संक्षेप में NDMA कहते हैं और अंग्रेजी भाषा में National disaster Management Authority कहते है|

गठन कब और कैसे

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का गठन विकासपरक प्रक्रिया के तहत हुआ है। विकास प्रक्रिया से तात्पर्य है कि मनुष्य अपने जीवन को सुरक्षित बनाने के लिए निरंतर प्रयत्नशील और सजग रहता है। इस दिशा में प्रयास करते हुए वह विभिन्न वस्तुओं संस्थाओं आदि का निर्माण करता है। मानव द्वारा आवास का निर्माण भी इसी प्रक्रिया का हिस्सा था। इसी के तर्ज पर आपदाओं से निपटने एवं प्रभाव को कम करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का गठन किया गया।

आपदाओं के पूर्व और बाद में निपटने में सक्षम एक संस्था की आवश्यकता हमेशा से महसूस की जाती थी। इस संबंध में 1999 में एक उच्च स्तरीय समिति की स्थापना की गई। 2001 में गुजरात में भूकंप आया जिससे भारी जानमाल की क्षति हुई इसके बाद आपदा प्रबंधन को राष्ट्रीय प्राथमिकता के रूप में महत्व दिया गया तथा एक राष्ट्रीय समिति स्थापित की गई। इतना ही नहीं दसवीं पंचवर्षीय योजना, जिसका समय काल 2002 से 2007 था, में आपदा प्रबंधन को विस्तृत रूप में शामिल किया गया। इसी समयकाल में सी रंगराजन की अध्यक्षता में 12वें वित्त आयोग का गठन किया गया, इसमें भी आपदा प्रबंधन के लिए वित्तीय व्यवस्था की समीक्षा करने को अनिवार्य किया गया था।

इसके बाद वर्ष 2005 में आपदा प्रबंधन अधिनियम संसद में लाया गया और इसके तहत गृह मंत्रालय के अधीन प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की स्थापना की गई।

कार्य महत्व और जिम्मेदारी

नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी देश में आपदा प्रबंधन के लिए समग्र और एकीकृत दृष्टिकोण के नेतृत्व एवं कार्यान्वयन करने वाली एजेंसी है। यह इस दृष्टि से एक सर्वोच्च संस्था है जिसकी जिम्मेदारी आपदा प्रबंधन के लिए नीतियां योजना और दिशानिर्देशों को निर्धारित करना है। यह आपदा प्रबंधन के लिए समय पर और प्रभावी प्रतिक्रिया सुनिश्चित करती है।

इसके कार्य और जिम्मेदारियां इस प्रकार है

  • आपदा प्रबंधन के लिए नीतियां निर्धारित करना
  • राष्ट्रीय योजना को मंजूरी देना
  • राज्य में योजना के निर्माण के लिए राज्य प्राधिकरण द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करना
  • विकास परियोजनाओं में आपदा की रोकथाम या आपदा के बाद इसके प्रभावों को कम करने के उपायों को एकीकृत करने के उद्देश्य से भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों व विभागों को दिशा-निर्देश करना
  • बड़ी आपदाओं से प्रभावित अन्य देशों को केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित समर्थन प्रदान करना
  • आपदा की रोकथाम के लिए अन्य उपाय करना
  • आपदाओं से निपटने के लिए राहत और क्षमता के निर्माण के रूप में आवश्यक विचार करना
  • अपने लिए (राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण) कामकाज के लिए व्यापक नीतियों और दिशानिर्देशों को निर्धारित करना

स्पष्ट है कि राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण भारतीय स्तर पर आपदाओं से निपटने एवं प्रबंधन की दृष्टि से सर्वोच्च संस्था हैं, जो आपदाओं के आने के पूर्व एवं आपदाओं के आने के बाद दोनों दोनों स्तर के लिए रणनीति बनाने एवं उसके क्रियान्वयन के लिए जिम्मेदार है।

हमारा सोशल मीडिया

29,574FansLike
25,786SubscribersSubscribe

Must Read

ताकि और गर्व से कहें, हम बिहारी हैं (हिन्दुस्तान)

पिछले दो सप्ताह से अभिनेता मनोज वाजपेयी द्वारा गाया गया एक रैप गीत बम्बई में का बा  दिलो-दिमाग में गूंज रहा है। यू...

बिहार में चुनाव  (हिन्दुस्तान)

बिहार विधानसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही हमारा लोकतंत्र एक नए दौर में प्रवेश कर गया। राजनीतिक रूप से बहुत महत्व रखने...

नदियों को बांधने की कीमत (हिन्दुस्तान)

बिहार की बागमती नदी से बाढ़-सुरक्षा दिलाने की बात एक बार फिर चर्चा में है। यह नदी काठमांडू से करीब 16 किलोमीटर उत्तर-पूर्व...

फिर आंदोलित किसान (हिन्दुस्तान)

संसद से पारित कृषि विधेयकों के खिलाफ आंदोलित पंजाब के किसानों के निशाने पर कल से ही रेल सेवाएं आ गई हैं, इसके...

Related News

ताकि और गर्व से कहें, हम बिहारी हैं (हिन्दुस्तान)

पिछले दो सप्ताह से अभिनेता मनोज वाजपेयी द्वारा गाया गया एक रैप गीत बम्बई में का बा  दिलो-दिमाग में गूंज रहा है। यू...

बिहार में चुनाव  (हिन्दुस्तान)

बिहार विधानसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही हमारा लोकतंत्र एक नए दौर में प्रवेश कर गया। राजनीतिक रूप से बहुत महत्व रखने...

नदियों को बांधने की कीमत (हिन्दुस्तान)

बिहार की बागमती नदी से बाढ़-सुरक्षा दिलाने की बात एक बार फिर चर्चा में है। यह नदी काठमांडू से करीब 16 किलोमीटर उत्तर-पूर्व...

फिर आंदोलित किसान (हिन्दुस्तान)

संसद से पारित कृषि विधेयकों के खिलाफ आंदोलित पंजाब के किसानों के निशाने पर कल से ही रेल सेवाएं आ गई हैं, इसके...

[BPSC आधिकारिक घोषणा] Important Notice: List of 31 new eligible candidates – 31st Bihar Judicial Services (Preliminary) Competitive Examination.

Important Notice: List of 31 new eligible candidates – 31st Bihar Judicial Services (Preliminary) Competitive Examination. : http://bpsc.bih.nic.in/Advt/NB-2020-09-24-04.pdf नोटिस के लिए यहाँ क्लिक करें BPSC...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here