रविवार, फ़रवरी 25, 2024
होमवैकल्पिक विषयअर्थशास्त्र अर्थशास्त्र (वैकल्पिक विषय)

[सिलेबस] अर्थशास्त्र (वैकल्पिक विषय)

बिहार लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम – अर्थशास्त्र (वैकल्पिक विषय)

खण्ड- I (Section – I)

  1. अर्थव्यवस्था का ढांचा, राष्ट्रीय आय का लेखीकरण।
  2. आर्थिक विकल्प- उपभोक्ता व्यवहार- उत्पादक व्यवहार और बाजार के रूप।
  3. निवेश सम्बन्धी निर्णय तथा आय और रोजगार का निर्धारण-आय, वितरण और वृद्धि के समृद्ध आर्थिक प्रतिरूप।
  4. बैंक व्यवस्था-योजनाबद्ध- विकासशील अर्थव्यवस्था के केन्द्रीय बैंक व्यवस्था के उद्देश्य और साधन तथा साख सम्बन्धी नितियाँ। बिहार में वाणिज्य बैंकों के क्रिया कलाप।
  5. करों के प्रकार और अर्थव्यवस्था पर उनका प्रभाव- बजट के आँकड़ों के प्रभाव। योजनाबद्ध विकासशील अर्थव्यवस्था के बजटीय और राजकोषीय नीति के उद्देश्य और साधन।
  6. अंतर्राष्ट्रीय व्यापार प्रशुल्क पद्वति, विनिमय दर, अदायगी शोध, अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा व बैंक संस्थान।

खण्ड- II (Section – II)

  1. भारतीय अर्थ व्यवस्था – भारतीय अर्थ नीति के निदेशक सिद्वांत, योजनाबद्ध वृद्धि और वितरण न्याय- गरीबी का उन्मूलन। भारतीय अर्थव्यवस्था का संस्थागत ढांचा- संघीय शासन संरचना- कृषि औद्योगिक क्षेत्र,
    सार्वजनिक और निजी क्षेत्र, राष्ट्रीय आय, उसका क्षेत्रीय वितरण, गरीबी कहाँ-कहाँ और कितनी।
  2. कृषि उत्पादन- कृषि नीति- भूमि सुधार- प्रौद्योगिकीय परिवर्तन- औद्योगिक क्षेत्र से सह-संबंध।
  3. औद्योगिक उत्पादन- औद्योगिक नीति। सार्वजनिक और निजी क्षेत्र क्षेत्रीय वितरण- एकाधिकारी प्रथा का नियंत्रण और एकाधिकार।
  4. कृषि उत्पादों और औद्योगिक उत्पादों के मूल्य निर्धारण सम्बन्धी नीतियाँ अधिप्राप्ति और सार्वजनिक वितरण।
  5. बजट की प्रवृतियाँ और राजकोषीय वितरण।
  6. मुद्रा और साख प्रवृत्तियाँ और नीति- बैंक व्यवस्था और अन्य वित्तीय संस्थाएँ।
  7. विदेशी व्यापार और अदायगी कोष।
  8. भारतीय योजना। उद्देश्य, व्यूह रचना, अनुभव और समस्याएँ।
  9. बिहार की अर्थ व्यवस्था- कृषि एवं उद्योग के सापेक्षिक स्थान, आर्थिक विकास के मार्ग की रूकावटें, गरीबी एवं बेरोजगारी, भूमि सुधार की प्रगति।
सम्बंधित लेख →

लोकप्रिय

hi_INहिन्दी