Home BPSC न्यूज़ आधिकारिक घोषणाएँ श्रम एवं समाज कल्याण (वैकल्पिक विषय) - बिहार लोक सेवा आयोग...

[सिलेबस] श्रम एवं समाज कल्याण (वैकल्पिक विषय) – बिहार लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम BPSC Mains Syllabus

खण्ड- I (Section – I)

श्रम विधान एवं श्रम प्रशासन

1. श्रम विधान के सिद्धांत- श्रम विधान के प्रकार

2. भारत में श्रम विधान का संक्षिप्त इतिहास

3. भारतीय संविधान में श्रम सम्बन्धी उपबंध

4. निम्नलिखित श्रम अधिनियम; यथा अद्यतन संशोधित मुख्य उपबंध एवं उनका मूल्यांकन

(क) कारखाना अधिनियम, 1948
(ख) न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948- बिहार में कार्यान्वयन
(ग) मजदूरी भुगतान अधिनियम, 1936
(घ) समाज पारिश्रमिक अधिनियम, 1976
(ङ) कर्मकार क्षतिपूत्र्ति अधिनियम, 1923
(च) प्रसूति हितलाभ अधिनियम, 1961
(छ) कर्मचारी राज्य बीमा अधिनियम, 1948
(ज) उपादान संदाय अधिनियम, 1972
(झ) बाल श्रम (प्रतिषेध एवं विनियम) अधिनियम, 1986
(ञ) बीड़ी तथा सिगार कर्मकार (नियोजन की शर्तें) अधिनियम, 1966
(ट) बिहार दूकान एवं प्रतिष्ठान अधिनियम, 1953

5. अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन, गठन, क्रियाकलाप, अंतर्राष्ट्रीय श्रम मानकों का सृजन भारतीय श्रम विधान पर प्रभाव।

6. बिहार में श्रम प्रशासन।

खण्ड- II (Section – II)

औद्योगिक सम्बन्ध एवम् समाज कल्याण

1. औद्योगिक सम्बन्ध एवम् श्रम संघ, भारत और बिहार के सन्दर्भ में

(क) औद्योगिक सम्बन्ध – अवधारणा, विस्तार क्षेत्र, मुख्य पहलू।
(ख) औद्योगिक विवाद एवं हड़ताल- रूप, कारण और रोकथाम, औद्योगिक विवाद सुलझाने के विभिन्न तरीके, सामूहिक सौदेबाजी, औद्योगिक विवाद अधिनियम, 1947.
(ग) प्रबन्ध में श्रमिकों की सहभागिता- उद्देश्य, संस्थाएँ, वर्तमान स्थिति, भारत में विफलता के कारण।
(घ) भारत में श्रम संघ- संक्षिप्त इतिहास, प्रकार, उद्देश्य एवं प्राप्ति की विधियाँ, ढांचा एवं प्रशासन, राजनैतिक लगाव एवं नेतृत्व, प्रतिद्वन्द्विता एवं मान्यता की समस्या, श्रम संघ अधिनियम, 1926.
(ङ) अनुशासन संहिता एवं आचरण संहिता।

2. समाज कल्याण एवं सामाजिक सुरक्षा

(क) सामाजिक सुरक्षा- अर्थ, क्षेत्र, प्रकृति एवं तरीके;
(ख) बेरोजगारी- अर्थ, प्रकार, कारण, दूर करने के उपाय, भारत में बेरोजगारी सम्बन्धी विश्ेाष कार्यकम;
(ग) निर्धनता- अर्थ, प्रकार, मात्रा, कारण, दूर करने के उपाय, भारत एवं बिहार में ग्रामीण निर्धनता, उन्मूलन सम्बन्धी सरकार के विशेष कार्यक्रम।
(घ) बाल कल्याण- बालकों की समस्याएँ, उनके लिये कल्याण कार्य;
(ङ) महिला कल्याण- महिलाओं की समस्याएँ, उनके लिये कल्याण कार्य;
(च) अनुसूचित जाति एवं जन-जाति कल्याण- समस्याएँ, कल्याण कार्य;
(छ) मद्यपान निषेध- बिहार में स्थिति;
(ज) वेश्यावृत्ति- प्रकृति, कारण, प्रभाव, दूर करने के उपाय;
(झ) भिक्षावृत्ति- प्रकृति, कारण, बिहार में स्थिति;
(ञ) बिहार सरकार के सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रम- वृद्धावस्था पेंशन, अनियोजन भत्ता, समूह बीमा, बंधुआ श्रमिकों का पुनर्वासन।

हमारा सोशल मीडिया

28,851FansLike
25,786SubscribersSubscribe

Must Read

अपराध का शिकंजा (प्रभात ख़बर)

अपराध का शिकंजा Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE BPSC.

व्यापक पुलिस सुधार की जरूरत (प्रभात ख़बर)

व्यापक पुलिस सुधार की जरूरत Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE...

बहिष्कार के साथ आत्मनिर्भरता (प्रभात ख़बर)

बहिष्कार के साथ आत्मनिर्भरता Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE BPSC.

मुफ्त लाभ बांटने में फंसे राज्य  (हिन्दुस्तान)

तमिलनाडु देश का वह राज्य है, जहां से जनता को बेहद मामूली दरों पर (लगभग मुफ्त) सुविधाएं देने का चलन शुरू हुआ। इसकी...

Related News

अपराध का शिकंजा (प्रभात ख़बर)

अपराध का शिकंजा Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE BPSC.

व्यापक पुलिस सुधार की जरूरत (प्रभात ख़बर)

व्यापक पुलिस सुधार की जरूरत Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE...

बहिष्कार के साथ आत्मनिर्भरता (प्रभात ख़बर)

बहिष्कार के साथ आत्मनिर्भरता Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE BPSC.

मुफ्त लाभ बांटने में फंसे राज्य  (हिन्दुस्तान)

तमिलनाडु देश का वह राज्य है, जहां से जनता को बेहद मामूली दरों पर (लगभग मुफ्त) सुविधाएं देने का चलन शुरू हुआ। इसकी...

सुधार के संकेत (हिन्दुस्तान)

करीब 20 दिनों के भारी तनाव के बाद चीन की मनमानी में आई नरमी खुशी का मौका न सही, एक बेहतर संकेत तो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here