Home BPSC न्यूज़ आधिकारिक घोषणाएँ 65वीं बीपीएससी : मुख्य परीक्षा का नोटिफिकेशन जारी, 4 मई से आवेदन

65वीं बीपीएससी : मुख्य परीक्षा का नोटिफिकेशन जारी, 4 मई से आवेदन

बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन (बीपीएससी) ने 65वीं संयुक्त मुख्य परीक्षा का नोटिफिकेशन अपनी ऑफिशियल वेबसाइट bpsc.bih.nic.in पर जारी कर दिया है. BPSC के 65वें प्रीलिमिनरी एग्जाम में सफल होने वाले सभी उम्मीदवार 4 मई से मेन एग्जाम के लिए आवेदन कर सकते हैं. ध्यान रखें कि 28 मई मेन परीक्षा के लिए आवेदन करने का अंतिम दिन है. परीक्षा शुल्क का भुगतान 4 मई से 18 मई के बीच भरा जा सकता है। आयोग कार्यालय में स्पीड पोस्ट/निंबधित डाक से आवेदन की हार्ड कॉपी व सभी कागजात/प्रमाण पत्र प्राप्त होने की अंतिम तिथि 15 जून है।

बीपीएससी 65वीं परीक्षा में कुल वैकेंसी 423 है। BPSC ने 65वें प्रीलिमिनरी एग्जाम का रिजल्ट 6 मार्च को जारी किया था, जिसकी परीक्षा 15 अक्टूबर 2019 को आयोजित की गई थी. प्रीलिमिनरी एग्जाम में कुल 6522 उम्मीदवारों को सफलता मिली है, जो अब BPSC के मेन एग्जाम में शामिल हो सकेंगे.

महत्वपूर्ण तारीखें                                  

  • 65वीं संयुक्त मुख्य परीक्षा के लिए ऑनलाइन फॉर्म भरने की प्रक्रिया 4 मई को शुरू होगी. 
  • मुख्य परीक्षा के लिए ऑनलाइन फॉर्म भरने की अंतिम तारीख 28 मई है. 
  • आवेदन की हार्ड कॉपी जमा करने की अंतिम तारीख 15 जून है. 

आवेदन की प्रक्रिया

योग्य उम्मीदवार ऑनलाइन मोड के जरिए आवेदन कर सकते हैं. ऑनलाइन एप्लिकेशन फॉर्म भरने की प्रक्रिया को पूरा करने के बाद उम्मीदवारों को एप्लिकेशन फॉर्म की हार्ड कॉपी 15 जून या इससे पहले जमा करनी होगी. 

बीपीएससी 65वीं पीटी ( BPSC 65th Prelims ) में पास होने वाले उम्मीदवार bpsc.bih.nic.in पर जाकर 4 मई 2020 से मुख्य परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं। ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 28 मई 2020 है। परीक्षा शुल्क का भुगतान 4 मई से 18 मई के बीच भरा जा सकता है। आयोग कार्यालय में स्पीड पोस्ट/निंबधित डाक से आवेदन की हार्ड कॉपी व सभी कागजात/प्रमाण पत्र प्राप्त होने की अंतिम तिथि 15 जून है।

जिस डेट को रजिस्ट्रेशन किया गया है उसकी अगली डेट को सुबह 11 बजे के बाद परीक्षा शुल्क का ऑनलाइन भुगतान करने के लिए ऑनलाइन लिंक उपलब्ध होगा। जिस तिथि को भुगतान किया गया है उसकी अगली तिथि को सुबह 11 बजे के बाद आवेदक को ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म भरने के लिए लिंक उपलब्ध होगा।

ऑनलाइन आवेदन की हार्डकॉपी स्वीकार करने की अंतिम तिथि 15 जून 2020 शाम 5 बजे है। इसे इस पते पर भेजना होगा- संयुक्त सह सचिव परीक्षा नियंत्रक, बिहार लोक सेवा आयोग, 15, जवाहरलाल नेहरू मार्ग (बेली रोड), पटना – 800001

आवेदन की फीस

सामान्य वर्ग – 750 रुपये
बिहार के एससी व एसटी वर्ग – 200 रुपये
बिहार राज्य की सभी महिलाएं – 200 रुपये
दिव्यांग वर्ग – 200 रुपये
अन्य सभी उम्मीदवार – 750 रुपये

परीक्षा का पैटर्न 

बीपीएससी 65वीं मुख्य परीक्षा तीन विषयों की होगी, जिसमें दो अनिवार्य विषय होंगे। सामान्य हिन्दी 100 अंकों का सामान्य अध्ययन (दो पेपर), प्रत्येक 300 अंकों के होंगे। इसके अलावा ऑप्शनल विषयों में से किसी एक विषय को ऐच्छिक विषय के रूप में रखना अनिवार्य है। प्रत्येक ऑप्शनल विषय का एक पेपर होगा जो 300 अंक का होगा। प्रत्येक विषय की परीक्षा की अवधि तीन घंटे की होगी। 

सामान्य हिन्दी के क्वलिफाइंग मार्क्स 30 अंक हैं जो अनिवार्य है। मेरिट सूची में इसकी गणना नहीं की जाएगी। बाकी विषयों में सामान्य श्रेणी के लिए 40 प्रतिशत, पिछड़ा वर्ग के लिए 36.5 प्रतिशत, अत्यंत पिछड़ा वर्ग के लिए 34 प्रतिशत, एससी, एसटी, महिला, दिव्यांग वर्ग के लिए 32 प्रतिशत मार्क्स हासिल करना अनिवार्य है। इससे कम मार्क्स लाने पर उम्मीदवार प्रतियोगिता से बाहर हो जाएंगे। 

मुख्य परीक्षा में प्राप्तांकों के आधार पर मेरिट सूची बनेगी और सफल उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाएगा जो 120 मार्क्स का होगा। 

परीक्षा का आयोजन

कैलेंडर के मुताबिक बीपीएससी 65वीं मेन एग्जाम का आयोजन जून में और रिजल्ट अक्टूबर में आना प्रस्तावित है। इंटरव्यू दिसंबर, 2020 में होंगे।

आधिकारिक PDF

हमारा सोशल मीडिया

29,621FansLike
25,786SubscribersSubscribe

Must Read

एक बड़े फैसले के अनेक पहलू  (हिन्दुस्तान)

फैसला नया है, लेकिन कई जरूरी पुरानी यादें ताजा हो गई हैं।16वीं सदी में मुगल बादशाह बाबर के दौर में बनी बाबरी मस्जिद...

अदालती निर्णय के बाद  (हिन्दुस्तान)

var w=window;if(w.performance||w.mozPerformance||w.msPerformance||w.webkitPerformance){var d=document;AKSB=w.AKSB||{},AKSB.q=AKSB.q||,AKSB.mark=AKSB.mark||function(e,_){AKSB.q.push()},AKSB.measure=AKSB.measure||function(e,_,t){AKSB.q.push()},AKSB.done=AKSB.done||function(e){AKSB.q.push()},AKSB.mark("firstbyte",(new...

आभासी लेकिन कामयाब अदालतें (हिन्दुस्तान)

वर्चुअल कोर्ट, यानी आभासी अदालतों को स्थाई रूप देने के प्रस्ताव पर मिश्रित प्रतिक्रिया आई है। कुछ लोग इसमें असीम संभावनाएं देख रहे...

अहम उप-चुनाव (हिन्दुस्तान)

आम तौर पर किसी उप-चुनाव को लेकर संबंधित निर्वाचन क्षेत्र के बाहर बहुत दिलचस्पी नहीं होती, क्योंकि उसका राजनीतिक प्रभाव भी सीमित होता...

Related News

एक बड़े फैसले के अनेक पहलू  (हिन्दुस्तान)

फैसला नया है, लेकिन कई जरूरी पुरानी यादें ताजा हो गई हैं।16वीं सदी में मुगल बादशाह बाबर के दौर में बनी बाबरी मस्जिद...

अदालती निर्णय के बाद  (हिन्दुस्तान)

var w=window;if(w.performance||w.mozPerformance||w.msPerformance||w.webkitPerformance){var d=document;AKSB=w.AKSB||{},AKSB.q=AKSB.q||,AKSB.mark=AKSB.mark||function(e,_){AKSB.q.push()},AKSB.measure=AKSB.measure||function(e,_,t){AKSB.q.push()},AKSB.done=AKSB.done||function(e){AKSB.q.push()},AKSB.mark("firstbyte",(new...

आभासी लेकिन कामयाब अदालतें (हिन्दुस्तान)

वर्चुअल कोर्ट, यानी आभासी अदालतों को स्थाई रूप देने के प्रस्ताव पर मिश्रित प्रतिक्रिया आई है। कुछ लोग इसमें असीम संभावनाएं देख रहे...

अहम उप-चुनाव (हिन्दुस्तान)

आम तौर पर किसी उप-चुनाव को लेकर संबंधित निर्वाचन क्षेत्र के बाहर बहुत दिलचस्पी नहीं होती, क्योंकि उसका राजनीतिक प्रभाव भी सीमित होता...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here