बिहार में कृषि

बिहार की लगभग 75 प्रतिशत जनसंख्या कृषि कार्य में संलग्न है। बिहार की अर्थव्यवस्था कृषि पर आधारित है। बिहार का कुल भौगोलिक क्षेत्र लगभग 93.60 लाख हेक्‍टेयर है जिसमें से केवल 56.03 लाख हेक्‍टेयर पर ही खेती होती है। राज्‍य में लगभग 79.46 लाख हेक्‍टेयर भूमि कृषि योग्‍य है। विभिन्‍न साधनों द्वारा कुल 43.86 लाख हेक्‍टेयर भूमि पर ही सिंचाई सुविधाएं उपलब्‍ध हैं जबकि लगभग 33.51 लाख हेक्‍टेयर भूमि की सिंचाई होती है। बिहार की प्रमुख खाद्य फ़सलें हैं- धान, गेहूँ, मक्‍का और दालें। मुख्‍य नकदी फ़सलें हैं- गन्ना, आलू, तंबाकू, तिलहन, प्‍याज, मिर्च, पटसन। लगभग 6,764.14 वर्ग कि. मी. क्षेत्र में वन फैले हैं जो राज्‍य के कुल भौगोलिक क्षेत्र का लगभग 7.1 प्रतिशत हैं।

  • बिहार एक कृषि आधारित राज्य है यह राज्य भारत में खाद्य उत्पादन में अग्रणी भूमिका निभाता है यहाँ की 85 प्रतिशत जनसंख्या कृषि कार्य पर आश्रित है 
  • बिहार राज्य में पैदा होने वाली प्रमुख खाद्यानफसलें  धान, गेहूँ, मक्का, जौ, ज्वार, रागी, बाजरा, सरसों, अरहर, चना, मसूर आदि है 
  • बिहार में उत्पादित होने वाली प्रमुख नगदी फसलें  गन्ना, मेस्ता, मखाना, मिर्च, चाय, जूट, तंबाकू, लीची आदि है 
  • बिहार में भारत में कुल लीची उत्पादन का 71 % हिस्सा उत्पादित होता है 
  • बिहार में कृषि के विकास के लिए दो रोडमैप अपनाये गए है जो निम्नलिखित है 
    1. कृषि रोड मैप – I – इस रोडमैप की शुरुआत 2008 में की गयी जो 31 मार्च 2012 तक चला इसके अंतर्गत बीज ग्राम योजना , मुख्यमंत्री रैपिड बीज एक्सटेंशन प्रोग्राम जैसी कई योजनाये चलायी गयी 
    2. कृषि रोडमैप – II – इस रोडमैप की शुरुआत 3 अप्रैल 2012 को की गयी जो वर्तमान में भी कार्यरत है 

बिहार में मुख्यतः रवि व खरीफ की फसलें बोई जाती है 

खरीफ की फसल – खरीफ की फसल जून-जुलाई में बोई जाती है तथा नवंबर-दिसंबर में  इसकी कटाई  जाती है  खरीफ की फसल के अंतर्गत धान, मक्का, ज्वार, बाजरा, अरहर आदि प्रमुख पफसलें हैं।
बिहार में खरीफ की फसलो को दो भागो में विभाजित किया जा सकता है 

  1. भदई फसल – इसके अंतगत ऐसी फसलें आती है जो कम समय में तैयार हो जाती है भदई पफसल के अंतर्गत ज्वार, बाजरा, धान, मक्का तथा कुछ तिलहनों की खेती की जाती है 
  2. अगहनी फसल  – यह फसल वर्षा ऋतू में बोई जाती है और नवम्बर – दिसम्बर में कटाई की जाती है धान अगहनी की प्रमुख फसल है 

रबी की फसल – रबी की फसल की बुआई अक्टूबर-नवंबर में की जाती है तथा मार्च-अप्रैल के महीने में तैयार हो जाती है। रबी की फसल के अंतर्गत गेहूँ, जौ, चना, मटर, सरसों आदि की खेती की जाती है   ये फसलें मुख्यतः सिंचाई पर निर्भर रहती है 
 

हमारा सोशल मीडिया

28,875FansLike
25,786SubscribersSubscribe

Must Read

आर्थिकी पर ध्यान (प्रभात ख़बर)

आर्थिकी पर ध्यान Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE BPSC.

सोशल मीडिया में भारत-चीन रिश्ते (प्रभात ख़बर)

सोशल मीडिया में भारत-चीन रिश्ते Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE...

अपराध और राजनीति का गठजोड़ (प्रभात ख़बर)

अपराध और राजनीति का गठजोड़ Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE...

लॉक और अनलॉक की आंख मिचौली (हिन्दुस्तान)

कंपनियों के तिमाही नतीजे आने लगे हैं। यह उसी तिमाही के नतीजे हैं, जिसके तीन में से दो महीने पूरी तरह लॉकडाउन में...

Related News

आर्थिकी पर ध्यान (प्रभात ख़बर)

आर्थिकी पर ध्यान Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE BPSC.

सोशल मीडिया में भारत-चीन रिश्ते (प्रभात ख़बर)

सोशल मीडिया में भारत-चीन रिश्ते Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE...

अपराध और राजनीति का गठजोड़ (प्रभात ख़बर)

अपराध और राजनीति का गठजोड़ Source link Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by DEFINITE...

लॉक और अनलॉक की आंख मिचौली (हिन्दुस्तान)

कंपनियों के तिमाही नतीजे आने लगे हैं। यह उसी तिमाही के नतीजे हैं, जिसके तीन में से दो महीने पूरी तरह लॉकडाउन में...

विज्ञान में आत्मनिर्भरता (हिन्दुस्तान)

देश का विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होना जितना जरूरी है, लगभग उतनी ही जरूरी है, इससे संबंधित संसदीय समिति की...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here