Friday, December 4, 2020
Home BPSC सिविल सेवा मनोविज्ञान (वैकल्पिक विषय)

[सिलेबस] मनोविज्ञान (वैकल्पिक विषय)

बिहार लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम – मनोविज्ञान (वैकल्पिक विषय)

खण्ड- I (Section – I)

मनोविज्ञान के आधार

1. मनोविज्ञान का विषय क्षेत्र- सामाजिक और व्यावहारिक विज्ञान में परिवार से मनोविज्ञान का स्थान।

2. मनोविज्ञान की पद्धतियाँ- मनोविज्ञान की प्रणालीतंत्रीय समस्याएँ, मनोवैज्ञानिक अनुसंधान का सामान्य अभिकल्प। मनोवैज्ञानिक अनुसंधान के प्रकार, मनोवैज्ञानिक मापन की विशेषताएँ।

3. मानव व्यवहार की प्रकृति, उद्गम और विकास, आनुवंशिकता तथा पर्यावरण, सांस्कृतिक कारक तथा व्यवहार, समाजीकरण की प्रक्रिया, राष्ट्रीय चरित्र की संकल्पना।

4. संज्ञानात्मक प्रक्रियाएँ- प्रत्यक्ष ज्ञान, प्रत्यक्ष ज्ञान के सिद्धांत, प्रत्यक्ष ज्ञान संगठन, व्यक्ति प्रत्यक्षण, प्रात्यक्षिक रक्षा, प्रत्यक्षन ज्ञान का कार्यात्मक उपागम, प्रत्यक्ष ज्ञान तथा व्यक्तित्व, आकृति अनुप्रभाव, प्रत्यक्ष ज्ञान शैली, प्रात्यक्षिक अपसामान्य, सतर्कता।

5. अधिगम- संज्ञानात्मक क्रिया प्रसूत तथा क्लासिकल अनुकूलन उपागम, अधिगम परिघटना विलोप, विभेद और सामान्यकरण, विभेद अभिगत, प्रायिकता अधिगम, प्रोग्रामित अधिगम।

6. स्मरण- स्मरण के सिद्धांत, अल्पकालिक स्मृति, दीर्घकालिक स्मृति, स्मृति का मापन, विस्मरण, संस्मृति।

7. चिन्तन- समस्या समाधान, संकल्पना निर्माण, संकल्पना निर्माण का रचना कौशल, सूचना प्रक्रिया, सपर्गनात्मक चिन्तन, अभिसारी तथा उपासारी चिन्तन, बालकों में चिन्तन के विकास के सिद्धांत।

8. बुद्धि- बुद्धि की प्रकृति, बुद्धि के सिद्धांत, बुद्धि का मापन, सृजनात्मकता का मापन, अभिक्षमता, अभिक्षमता का मापन, सामाजिक बुद्धि की संकल्पना।

9. अभिप्रेरण- अभिप्रेरित व्यवहार की विशेषताएँ, अभिप्रेरण के उपागम, मनोविश्लेषी सिद्धांत, अन्तर्नोद सिद्धांत, आवश्यकता अभिक्रम सिद्धांत, सदिश कर्षण शक्ति उपागम, आकांक्षा स्तर की संकल्पना, अभिप्रेरण के मापन, विरक्त तथा विमुख व्यष्टि, प्रेरक।

10. व्यक्तित्व- व्यक्तित्व की संकल्पना, विशेषक और प्रकार उपागम, कारकीय तथा आयामीय उपागम, व्यक्तित्व के सिद्धांत फ्रीउड, अलपोर्ट, मुरे, केटल, सामाजिक अभिगम सिद्धांत तथा क्षेत्र सिद्धांत, व्यक्तित्व के भारतीय उपागम गुणों की संकल्पना, व्यक्तित्व का मापन, प्रश्नावली निर्धारण मापनी, मनोमति परीक्षण, प्रक्षमी परीक्षण प्रेक्षण प्रणाली।

11. भाषा और सम्प्रेषण- भाषा का मनोवैज्ञानिक आधार, भाषा विकास का सिद्धांत स्किनर और चाॅमस्की, अवशाश्दिक, संप्रेषण, कार्यभाषा प्रभावी सम्प्रेषण स्रोत और ग्रहीता की विशेषताएँ, अनुभवी सम्प्रेषण।

12. अभिवृत्तियाँ और मूल्य- अभिवृत्तियों की संरचना, अभिवृत्तियों की बनावट, अभिवृत्तियों के सिद्धांत, अभिवृत्तितत्व मापन, अभिवृत्ति मापनी के प्रकार, अभिवृत्ति परिवर्तनक के सिद्धांत, मूल्य-मूल्यों के प्रकार, मूल्यों के अभिप्रेरणीय गुणधर्म, मूल्यों का मापन।

13. अभिनव प्रवृत्तियाँ- मनोविज्ञान और कम्प्यूटर, व्यवहार का संतात्रिकी माॅडल, मनोविज्ञान में अनुरूपता अध्ययन चेतना का अध्ययन चेतना की परिवर्तित स्थितियाँ, निद्रा, स्वप्न, ध्यान और सम्मोहन आत्मविस्मूति, मादक द्रव्य उत्प्रेरित परिवर्तन संवेदन वचन, विमानन और अंतरिक्ष उड़ान में मानव समस्याएँ।

14. मानव के माॅडल- यांत्रिक मानव, जैविक मानव, संगठनात्मक मानव, मानवतावादी मानव, व्यवहार परिवर्तन के विभिन्न प्रतिरूपों के निहितार्थ एक एकीकृत प्रतिरूप।

खण्ड- II (Section – II)

मनोविज्ञान विचार-विषय और अनुप्रयोग

1. व्यक्तिगत विभिन्नताएँ- व्यक्तिगत विभिन्नताओं का मापन, मनोविज्ञान परीक्षणों के प्रकार, मनोवैज्ञानिक परीक्षणों का निर्माण, अच्छे मनोवैज्ञानिक परीक्षण की विशेषताएँ, मनोवैज्ञानिक परीक्षाणों की सीमाएँ।

2. मनोवैज्ञानिक विकास- विकारों का वर्गीकरण तथा रोग वर्गीकरण प्रणालियाँ, तंत्रिका, तापीय, मनस्तापी और मनोदैहिक विकास, मनोविकृत व्यक्तित्व, मनोवैज्ञानिक विकारों के सिद्धांत, चिन्ता अवसाद तथा खिंचाव की समस्याएँ।

3. चिकित्सात्मक उपागम- मनोगतिक-उपागम, व्यवहार चिकित्सा, रोगी केन्द्रित चिकित्सा संज्ञानात्मक चिकित्सा, समूह चिकित्सा।

4. संगठनात्मक तथा औद्योगिक समस्याओं से मनोविज्ञान का अनुप्रयोग, वैयक्तिक चयन, प्रशिक्षण, कार्य, अभिप्रेरणा, कार्य अभिप्रेरण सिद्धांत कृत्य अभिकल्पन, नेतृत्व प्रशिक्षण, सदभागी प्रबन्ध।

5. लघु समूह- लघु समूह की संकल्पना, समूह के गुणधर्म, कार्यरत, समूह व्यवहार के सिद्धांत, समूह व्यवहार का मापन अन्तक्र्रिया प्रक्रिया विश्लेषण, अन्र्तव्यक्ति सम्बन्ध।

6. सामाजिक परिवर्तन- समाज परिवर्तन की विशेषताएँ, परिवर्तन के मनोवैज्ञानिक आधार, परिवर्तन प्रतिरोध, प्रतिरोधी कारक, परिवर्तन प्रयोजन, परिवर्तन प्रवणता की संकल्पना।

7. मनोविज्ञान तथा अधिगम प्रक्रिया- शिक्षार्थी समाजीकरण के कत्र्ता के रूप में विद्यालय अधिगम स्थितियों में विरोधों से संबंधित समस्याएँ, प्रतिभाशाली और संदित बालक तथा उनके प्रशिक्षण से संबंधित समस्याएँ।

8. सुविधा वंचित समूह- प्रकार, सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक सुविधावंचन के मनोवैज्ञानिक फल वंचन की संकल्पना, सुविधावंचित समूहों की शिक्षा, सुविधावंचित समूहों के अभिप्रेरण की समस्याएँ।

9. मनोविज्ञान तथा सामाजिक एकीकरण की समस्या- सजातीय पूर्वाग्रह की समस्या, पूर्वाग्रह की प्रकृति, पूर्वाग्रह की अभिव्यक्ति, पूर्वाग्रह का विकास, पूर्वाग्रह का मापन, पूर्वाग्रह का सुधार, पूर्वाग्रह और व्यक्तित्व, सामाजिक एकीकरण के उपाय।

10. मनोविज्ञान तथा आर्थिक विकास- उपलब्धि अभिप्रेरण की प्रकृति, उपलब्धि अभिप्रेरण, उद्यमशीलनता संवर्द्धन, उद्यमशीलनता संलक्षण, प्रौद्योगीकीय परिवर्तन तथा मानवीय व्यवहार पर इसका प्रभाव।

11. सूचना का प्रबन्ध और संचरण- सूचना प्रबन्ध में मनोवैज्ञानिक कारक, सूचना अतिभार, प्रभावी संचरण के मनोवैज्ञानिक आधार, जन संचार और सामाजिक परिवर्तन में उनकी भूमिका, दूरदर्शन का प्रभाव, प्रभावी विज्ञापन का मनोवैज्ञानिक आधार।

12. समकालीन समाज की समस्याएँ- खिंचाव, खिंचाव का प्रबन्ध, मद्यव्यसनता तथा मादक द्रव्य व्यसन, सामाजिक विसामान्य, किशोर, अपचार अपराध विसामान्य का पुर्नस्थापन, वयोवृद्धों की समस्याएँ।

हमारा टेलीग्राम चैनल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

[सिलेबस] इतिहास (वैकल्पिक विषय)

बिहार लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम - इतिहास (वैकल्पिक विषय) खण्ड- I (Section - I) भाग (क) - भारत का इतिहास (760 ईसवी सन् तक) 1. सिन्धु सभ्यता उद्गम, विस्तार, प्रमुख विशेषताएँ, महानगर,...

गांधी जी के राजनीतिक, सामाजिक, नैतिक और अर्थव्यवस्था संबंधी चिंतन का वर्णन करें?

गांधीजी का विश्व राजनीतिक इतिहास में उदय दक्षिण अफ्रीका की भूमि पर हुआ परंतु वास्तविक ऊंचाई भारत के राष्ट्रीय आंदोलन से मिली और वे मानवता के सबसे बड़े पुजारी के रूप में उभरे ना केवल भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के सर्वमान्य नेतृत्व करते थे बल्कि उनका महत्व इस...

बिहार में राइट टू सर्विस एक्ट

आम जनता का यह अधिकार कि वह कुछ सार्वजनिक सेवाओ को तय समयावधि में पाने का हक रखती है - 'सेवा का अधिकार' कहलाता है। इसके तहत तय समयसीमा में काम का निबटारा करना सम्बंधित अधिकारियों की बाध्यता होती है। समयसीमा के अंदर सेवा नहीं उपलब्ध करानेवाले...