Saturday, November 28, 2020
Home वैकल्पिक विषय Geography भूगोल (वैकल्पिक विषय)

[सिलेबस] भूगोल (वैकल्पिक विषय)

बिहार लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम – भूगोल (वैकल्पिक विषय)

खण्ड- I (Section – I)

भूगोल का सिद्धान्त (Theory of Geography)

भाग ‘‘क’’ (Part – A) भौतिक भूगोल (Physical Geography)

1. भू-आकृति विज्ञान- भू पटल का उद्गम तथा विकास भू-संचलन तथा प्लेट विवर्तनिकी, ज्वालामुखी क्रिया अपरदन चक्र- डेविस तथा पेंक नदीय, हिमनदीय शुष्क तथा कास्र्ट भू-आकृतियाँ, पुर्नयवनित तथा बहुचक्रीय भू-आकृतियाँ।

2. जलवायु विज्ञान- वायु मंडल, इसकी संरचना तथा संयोजन, वायु राशियां, वाताग्र चक्रवात तथा सम्बद्ध परिघटनाएँ- जलवायु वर्गीकरण, कोपेन तथा थान्र्थवेट, भूतलजल, जलचक्र तथा जल वैज्ञानिक चक्र।

3. मृदायें तथा वनस्पति- मृदा उत्पत्ति वर्गीकरण तथा वितरण, सवाना तथा मानसुन वन जीवोमों के पारिस्थितिक पहलू।

4. महासागरीय विज्ञान- महासागर तल, उच्चावच भारतीय महासागरीय तल का उच्चावच, लवणता, धाराएँ तथा ज्वार, समुद्र निक्षेप तथा मूंग चट्टानें।

5. पारिस्थितिक तंत्र – पारिस्थिति-तंत्र की संकल्पना, पारिस्थितिक तंत्र पर मनुष्य का संघात, विश्व की पारिस्थिति का असंतुलन।

भाग ‘‘ख‘’ (Part – B) मानव तथा आर्थिक भूगोल (Human and Economic Geography)

1. भौगोलिक चिन्तन का विकास- यूरोपीय तथा ब्रिटिश भूगोलविदों का योगदान, नियतिवाद तथा सम्भववाद, भूगोल में द्वैतवाद मात्रात्मक तथा व्यवहारात्मक क्रांतियाँ।

2. मानव भूगोल- मानव तथा मानव प्रजातियों का आविर्भाव, मानव का संास्कृतिक विकास, विश्व के प्रमुख सांस्कृतिक परिमंडल, अंतर्राष्ट्रीय प्रव्रजन, अतीत और वर्तमान, विश्व की जनसंख्या का वितरण तथा वृद्धि, जन-सांख्यिकीय संक्रमण तथा विश्व जनसंख्या की समस्याएँ।

3. बस्ती भूगोल- ग्रामीण तथा नगरीय बस्तियों की संकल्पना, नगरीकरण का उद्भव- ग्रामीण बस्ती के प्रतिरूप, नगरीय वर्गीकरण-नगरीय प्रभाव के क्षेत्र तथा ग्रामीण नगरीय सीमान्त, नगरों की आन्तरिक संरचना, विश्व में नगरीय वृद्धि की समस्याएँ।

4. राजनीतिक भूगोल- राष्ट्र और राज्य की संकल्पनाएँ, सीमान्त, सीमाएँ तथा वफर क्षेत्र, केन्द्र स्थल तथा उपान्त स्थल की संकल्पना, संघवाद।

5. आर्थिक भूगोल- विश्व का आर्थिक विकास- मापन तथा समस्याएँ, संसाधन की संकल्पना, विश्व संसाधन उनका वितरण तथा विश्व समस्याएँ, विश्व ऊर्जा संकट, अभिवृद्धि की सीमाएँ, विश्व कृषि- प्रारूप विज्ञान तथा विश्व के कृषि क्षेत्र, कृषि अवस्थिति का सिद्धांत, विश्व उद्योग-उद्योगों की अवस्थिति का सिद्वान्त, विश्व औद्योगिक नमूने तथा समस्याएँ, विश्व व्यापार सिद्धान्त तथा विश्व के प्रतिरूप।

खण्ड- II (Section – II)

भारत का भूगोल (Geography of India)

भौतिक पहलू- भू वैज्ञानिक इतिहास, भू-आकृति और अपवाह तंत्र, भारतीय मानसून का उद्गम और क्रिया विधि, मुद्रा और वनस्पति।

मानवीय पहलू- आदिवासी क्षेत्र तथा उनकी समस्याएँ, जनंसख्या वितरण, संघनता और वृद्धि, जनंसख्या की समस्याएँ तथा नीतियाँ।

संसाधन- भूमि खनिज, जल जीवीय और समुद्री संसाधनों का संरक्षण और उपयोग।

कृषि- सिंचाई, फसलों की गहनता, फसलों का संयोजन, हरित क्रांति, भूमि उपयोग सम्बन्धी नीति, ग्रामीण अर्थ व्यवस्था-पशुपालन, सामाजिक वानिकी और घरेलू उद्योग।

उद्योग- औद्योगिक विकास का इतिहास, स्थानीकरण कारक, खनिज आधारित, कृषि आधारित तथा वन आधारित उद्योगों का अध्ययन, औद्योगिक संकुल और औद्योगिक क्षेत्रीयकरण।

परिवहन और व्यापार- सड़कों, रेलमार्गां तथा जलमार्गों की व्यवस्था का अध्ययन, अन्तः तथा अंतरक्षेत्रीय व्यापार तथा गाँव के बाजार केन्द्रों की भूमिका।

बस्तियाँ- ग्रामीण बस्तियों का प्रतिरूप, भारत मंे नगरीय विकास तथा उनकी समस्याएँ, भारतीय नगरों की आंतरिक संरचना, नगर आयोजन, गन्दी बस्तियाँ तथा नगरीय आवास, राष्ट्रीय नगरीकरण नीति।

क्षेत्रीय विकास तथा आयोजन- भारत की पंचवर्षीय योजना, बहुस्तरीय आयोजन, राज्य जिला तथा प्रखंड स्तरीय आयोजन, भारत में विकास के संबंध में क्षेत्रीय असमानताएँ।

राजनैतिक पहलू – भारत की राजनैतिक समस्याएँ, राज्य पुनर्गठन, भारत की अन्तर्राष्ट्रीय सीमा तथा सम्बद्ध मामले। भारत तथा हिन्द महासागर क्षेत्र की भू-राजनीति।

बिहार के भूगोल का निम्नलिखित शीर्षकों के अन्तर्गत अध्ययन, प्राकृतिक विभाग, मिट्टियाँ, वन, जलवायु, कृषि का प्रतिरूप, सूखा और बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों की समस्याएँ और समाधान, प्रमुख खनिज संसाधन- लोहा, ताम्बा, बाक्साइट, अबरख और कोयला, प्रमुख उद्योग- लोहा-इस्पात, एल्युमुनियम, सीमेन्ट, चीनी, प्रमुख औद्योगिक प्रदेश, बिहार की जनंसख्या की समस्या, जन-जातियों की समस्याएँ और उनका समाधान, बिहार में नगरीकरण का प्रतिरूप।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

[सिलेबस] मनोविज्ञान (वैकल्पिक विषय)

बिहार लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम - मनोविज्ञान (वैकल्पिक विषय) खण्ड- I (Section - I) मनोविज्ञान के आधार 1. मनोविज्ञान का विषय क्षेत्र- सामाजिक और व्यावहारिक विज्ञान में परिवार से मनोविज्ञान का स्थान।

Important Notice: Most Important Instructions for the Examinees of 65th Combined Main (Written) Competitive Examination.

Important Notice: Most Important Instructions for the Examinees of 65th Combined Main (Written) Competitive Examination. : http://bpsc.bih.nic.in/Advt/NB-2020-11-19-01.pdf नोटिस के लिए यहाँ क्लिक करें BPSC वेबसाइट के लिए यहाँ क्लिक करें

बिहार में 5 सीटें जीतकर उलटफेर करने वाली ओवैसी की पार्टी AIMIM को सता रहा विधायकों के टूटने का डर, उठाया ये कदम

पटनाबिहार चुनाव में एनडीए की जीत के बाद नीतीश कुमार के नेतृत्व में नई सरकार के गठन की तैयारियां जोरों पर है। एनडीए विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद नीतीश कुमार आज सातवीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। वहीं बिहार विधानसभा चुनाव में बड़ा उलटफेर करने...

[सिलेबस] विधि (वैकल्पिक विषय)

बिहार लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम - विधि (वैकल्पिक विषय) खण्ड- I (Section - I) भाग- 1 : भारत की संवैधानिक विधि (Section - 1 : Constitutional Law of India) 1. भारतीय-संविधान की प्रकृति। इसके परिसंघीय...