Home बिहार के अखबारों में

बिहार में अमरनाथ जैसी मुसीबत, करकटगढ़ जलप्रपात के पास फंसे पर्यटकों को निकाला गया; अचानक बढ़ा कर्मनाशा नदी का जलस्‍तर

बिहार और उत्‍तर प्रदेश की सीमा पर स्‍थि‍त करकटगढ़ जलप्रपात के निकट पिकनिक मना रहे लोगों के सामने रविवार को अचानक बड़ी मुसीबत आ गई। रविवार को कर्मनाशा नदी में अचानक जलस्तर बढ़ जाने के कारण पिकनिक मना रहे करीब 100 लोग दूसरे छोर पर फंस गए। जलप्रपात का कुछ हिस्सा बिहार के कैमूर जिले के चैनपुर प्रखंड की रामगढ़ पंचायत में तो कुछ हिस्सा उत्तर प्रदेश (यूपी) में पड़ता है। चैनपुर प्रखंड के अंचलाधिकारी (सीओ) के साथ ही पुलिस और रेस्क्यू टीम तत्‍काल मौके पर पहुंची और बचाव कार्य शुरू किए। स्‍थानीय थानेदार ने सोमवार को जानकारी दी कि यहां फंसे सभी पर्यटकों को सुरक्षि‍त निकाल लिया गया है।

मोबाइल नेटवर्क नहीं होने से सामने आई परेशानी 

बताया जा रहा है कि पर्यटक जहां फंसे थे, वहां मोबाइल का नेटवर्क काम नहीं करता है। इसके चलते पर्यटकों की सही स्‍थि‍त‍ि की जानकारी मिलने में दिक्‍कतें आईं। प्रशासन की ओर से जल्‍दी ही पूरे प्रकरण पर अपडेट दिए जाने की संभावना है।

रविवार होने से काफी संख्या में लोग पिकनिक मनाने गए थे 

बताया गया कि रविवार होने की वजह से काफी संख्या में लोग पिकनिक मनाने के लिए कर्मनाशा नदी पार कर करकटगढ़ जलप्रपात पहुंचे थे। सुबह में कर्मनाशा नदी का जलस्तर काफी कम था, इस कारण लोग आसानी से पैदल ही उस पार उत्तर प्रदेश की सीमा में चले गए। परंतु दोपहर बाद अचानक नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ गया, जिससे उस पार गए सौ से अधिक पर्यटक फंस गए हैं। बताया गया कि यूपी के ओरवां टाड़ डैम से पानी डिस्चार्ज कर दिया गया था। इस कारण अचानक ही नदी का जलस्तर काफी तेजी से बढ़ गया।

किसी तरह उस पार फंसे लोगों ने स्वजन व चैनपुर पुलिस को सूचना दी। तत्काल चैनपुर के अंचलाधिकारी पुरेंद्र कुमार सिंह एवं थानाध्यक्ष संजय कुमार पासी रेस्क्यू टीम के साथ करकटगढ़ रवाना हो गए थे। थानाध्यक्ष ने बताया था कि फिलहाल कितने लोग फंसे हैं, इसका कोई निश्चित आंकड़ा नहीं है। ओरवां टाड़ डैम से वाटर डिस्चार्ज रोकने के लिए एक सिपाही को भेजा गया, ताकि जलस्तर कम होने पर दूसरे छोर पर फंसे लोगों को निकाला जा सके।

Source link

Exit mobile version