Homeवैकल्पिक विषयसमाजशास्त्रनगरीय समाजशास्त्र का अर्थ एवं परिभाषा (Meaning and Definition of Urban Sociology)

नगरीय समाजशास्त्र का अर्थ एवं परिभाषा (Meaning and Definition of Urban Sociology)

नगरीय समाजशास्त्र नगर से संबंधित है। यह नगरों की विशिष्ट जीवन पद्धति का व्यवस्थित एवं प्रबंध अध्ययन है। यह नगरीय पर्यावरण के सामाजिक सांस्कृतिक प्रयासों, संबंधों और नगरीय सभ्यता आदि का अध्ययन है। प्रसिद्ध अमेरिकीशास्त्री ‘रॉबर्ट पार्क’ नगरीय समाजशास्त्र के जनक माने जाते हैं।

Lowry Nelson के अनुसार नगरीय समाजशास्त्र नगरीय पर्यावरण, सामाजिक सांस्कृतिक प्रयासों, नगरीय संबंधों और सभ्यता का अध्ययन है।

Habbhouse कहते हैं नगरीय समाजशास्त्र नगरीय जीवन और समस्याओं का विशिष्ट अध्ययन है।

Nels Anderson अपनी पुस्तक The urban community में लिखते हैं नगरीय समाजशास्त्र कस्बों एवं नगरों में निवास करने वाले व्यक्तियों के जीवन व समाज से संबंधित है।

E. E. Bergel अपनी पुस्तक Urban Sociology लिखते हैं कि नगरीय समाजशास्त्र सामाजिक कार्यों, सामाजिक संबंधों, सामाजिक संस्थाओं, नगरीय जीवन, ढंगों पर आधारित सभ्यता के प्रकारों पर नगरीय जीवन के प्रभावों का अध्ययन करता है।

Ananya Swaraj
Assistant Professor

हमारा टेलीग्राम चैनल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय