Home BPSC मुख्य परीक्षा GS पेपर 2 - भारतीय राजव्यवस्था किसानों के पास विरोध का संवैधानिक अधिकार

किसानों के पास विरोध का संवैधानिक अधिकार

हाल ही में तीन कृषि बिलों के मामले में सुनवाई करते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने कहा है कि किसानों के पास इस मामले पर विरोध का संवैधानिक अधिकार है, जब तक कि वे किसी प्रकार की जानमाल को क्षति ना पहुंचाएं.

भारतीय संविधान में विरोध का अधिकार

भारतीय संविधान के भाग 3 में नागरिकों को कुल 6 प्रकार के मूल अधिकार दिए गए हैं जिनमें अनुच्छेद 19 के अंतर्गत भारतीय नागरिकों को वाक् एवं अभिव्यक्ति की आजादी प्रदान की गई है. इसी वाक् एवं अभिव्यक्ति की आजादी के अंतर्गत भारतीय संविधान में शांतिपूर्ण एवं अहिंसक तरीके से प्रदर्शन एवं विरोध करने का अधिकार (अनुच्छेद 19) प्रदान किया गया है. ध्यान रहे कि हड़ताल का अधिकार इसके अंतर्गत नहीं आता है. हालांकि राज्य की एकता और अखंडता, सुरक्षा एवं संप्रभुता का खतरा होने पर राज्य प्रदर्शन एवं विरोध के अधिकार पर उचित प्रतिबंध भी लगा सकता है.

ध्यान दें कि अनुच्छेद 15, 16, 19, 29 एवं 30 के अंतर्गत मूल अधिकार केवल भारतीय नागरिकों को प्राप्त है, विदेशियों को नहीं. जबकि शेष सभी मूल अधिकार भारतीय नागरिकों के साथ-साथ विदेशियों को भी प्राप्त है.

प्रदर्शनकारी किसानों को हटाने की मांग के लिए याचिका की प्रमुख बातें

  • किसान दूसरों के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन नहीं कर सकते
  • आंदोलन के चलते दिल्ली को तीन राज्यों से जोड़ने वाली हाईवे पूरी तरह से जाम हैं, जिससे यातायात, आवागमन, व्यापार, एम्बुलेंस व मेडिकल इमरजेंसी जैसे आपातकालीन सेवाओं के लिए आम लोगों बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.
  • आंदोलन में कोविड-19 सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का भी पालन नहीं किया जा रहा है. आंदोलन में शामिल लोग ना मास्क पहने हुए हैं और ना ही सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन कर रहे हैं. यही लोग फिर अपने गांवों में जाएंगे तो कोरोना फैलने का खतरा और बढ़ जाएगा.

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी

देश के शीर्ष अदालत ने कहा है कि विरोध करना एक संवैधानिक अधिकार है, इसलिए किसानों को तब तक प्रदर्शन का अधिकार है जब तक कि किसी जानमाल और संपत्ति के नुकसान का खतरा न हो.  हालांकि किसानों को भी समझना चाहिए कि इस आंदोलन से आम नागरिकों को भी कोई दिक्कत या परेशानी का सामना ना करना पड़े. कोर्ट ने कहा कि केवल रास्ता जाम करने और धरने पर बैठ जाने से समाधान नहीं निकलेगा बल्कि आपस में बातचीत करने से मामले का हल निकलेगा. केंद्र और किसानों को बात करनी होगी. एक निष्पक्ष और स्वतंत्र समिति के बारे में सोच सकते हैं, जिसके सामने दोनों पक्ष अपनी बात रख सकते हैं.

हमारा टेलीग्राम चैनल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Revised Examination Program: 65th Combined Main (Written) Competitive Examination (Revision in Timing of Exam).

Revised Examination Program: 65th Combined Main (Written) Competitive Examination (Revision in Timing of Exam). : http://bpsc.bih.nic.in/Advt/NB-2020-10-29-01.pdf

फील्ड क्राफ्ट एंड टैक्टिस, मैप रीडिंग एवं रूट मार्च (Field Craft & Tactics)

फील्ड क्राफ्ट टैक्टिस एवं जंगल ट्रेनिंग (अ) फील्ड क्राफ्ट देखभाल जमीन का अध्ययन चीजें क्यों नजर आती है छद्म व छुपाव फासले का अनुमान लगाना रात्रि संतरी के कर्तव्य जमीनी निशानों, टारगेटो का बयान व पहचान फायर कंट्रोल ऑर्डर...

Action taken against Application received from the Candidate – under 31st Bihar Judicial Services (Preliminary) Competitive Examination.

Action taken against Application received from the Candidate – under 31st Bihar Judicial Services (Preliminary) Competitive Examination. : http://bpsc.bih.nic.in/Advt/NB-2021-01-24-01.pdf

[सिलेबस] राजनीति विज्ञान तथा अन्तर्राष्ट्रीय संबंध (वैकल्पिक विषय)

बिहार लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम - राजनीति विज्ञान तथा अन्तर्राष्ट्रीय संबंध (वैकल्पिक विषय) खण्ड- I (Section - I) भाग ‘‘क’’ (Part - A) राजनीतिक सिद्धान्त प्राचीन भारतीय राजनीतिक विचारधारा की...