Home BPSC न्यूज़ BPSC अखबारों में परिवहन विभाग में अन्य पदों का हुआ सृजन, जल्द ही BPSC के...

परिवहन विभाग में अन्य पदों का हुआ सृजन, जल्द ही BPSC के माध्यम से भरी जाएंगी सीटें

पटना: बिहार में कोरोना रोकथाम के लिए सरकार की ओर से की जा रही कोशिशों की जानकारी देने के बाद अन्य क्षेत्रों में कार्यों की समीक्षा करते हुए सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए. इस दौरान परिवहन सचिव संजय अग्रवाल ने बताया कि कल मंत्रिपरिषद की ओर से परिवहन सेवा के कैडर की फाइनल स्वीकृति देते हुए अतिरिक्त पदों स्वीकृति दी गयी है. 

इसके बाद अब बिहार परिवहन सेवा का गठन फाइनल हो गया है. बिहार लोक सेवा आयोग के माध्यम से परिवहन विभाग के पदाधिकारियों का अब चयन होगा, भविष्य में उनकी पदस्थापना होगी और एक प्रमोशनल एवेन्यूज भी खुलेंगे. 

इसके लिए विस्तृत नियमावली बन गई है और विस्तृत पदों का सृजन भी हो गया है. इससे रेगुलेशन संबंधी और अन्य कार्य अच्छे तरीके से होंगे. लोग जवाबदेही के साथ काम करेंगे. सड़क सुरक्षा को बढ़ाकर दुर्घटनाओं में कमी लाई जा सके और अन्य सुरक्षा संबंधी मामलों का निष्पादन किया जा सके. इसलिए इस कैडर का गठन किया गया है. 

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के तहत अब तक कुल 26 हजार 446 लाभुकों को रोजगार मुहैया कराया गया है. इसके लिए राज्य सरकार ने 264 करोड़ रूपए अनुदान के रूप में विभिन्न लाभुकों को दिए हैं. यह योजना बिहार की सभी पंचायतों में लागू है. 

इस वित्तीय वर्ष के अंत तक 41,930 व्यक्तियों को लाभ दिया जाना है. इसमें अब तक 14,493 अनुसूचित जाति, 10,721 अत्यंत पिछड़ा एवं 1,232 अनुसूचित जनजाति के लाभुकों को वाहनों की खरीद के लिए अनुदान दिया गया है. यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों में अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में काफी कारगर साबित हो रही है. 

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के तहत अब तक सभी पांच चरणों में लक्ष्य के खिलाफ जमुई जिले में सबसे अधिक 90.20 फीसदी लाभुकों को लाभ मिला है. यहां 169 पंचायतों में 765 का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसके विरुद्ध 690 लाभुकों का चयन करते हुए मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना का लाभ दिया गया है. 

वहीं औरंगाबाद में 86%, कटिहार में 81%, भोजपुर में 80%, पूर्णिया में 79% और नालंदा में 78% लक्ष्य के विरुद्ध टारगेट पूरा किया गया है. शेष जिलों में भी प्रगति काफी अच्छी है. 25 प्रखंडों में 100% उपलब्धि हासिल हो चुकी है.

परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि जनहित में यह निर्णय लिया गया है कि निबंधित व्यावसायिक पैसेंजर वाहन एवं मालवाहक वाहनों के वाहन स्वामी, जो 21 मार्च 2020 से – 30 जून 2020 तक की अवधि की तिमाही का पथकर
लॉकडाउन के कारण जमा नहीं कर पाए हैं, उनके लिए 31 जुलाई 2020 तक पथकर जमा करने पर कर अवधि के देय कर में 40 प्रतिशत की एकमुश्त छूट दी जाएगी. इसमें कोई अर्थदंड नहीं देना होगा. 

उन्होंने बताया कि वर्ष 2020-21 की तिमाही अवधि में देय कर में 40 प्रतिशत एकमुश्त छूट से राज्य के बस व ट्रक सहित व्यावसायिक वाहनों के वाहन मालिकों को इसका लाभ मिल सकेगा. अब तक 5200 वाहन मालिकों को इसका लाभ मिला है.
लॉकडाउन के कारण फिटनेस से संबंधित वाहन के कागजात यदि अधूरे रह गए है तो राज्य सरकार ने इसके लिए 30 सितम्बर तक छूट दे रखी है. 

वही वाहनों का रजिस्ट्रेशन यदि किसीकारण से फेल हो गया था या वाहन मालिक टैक्स डिफाल्टर हो गए हैं तो उनके लिए राज्य सरकार ने 30 सितम्बर तक टैक्स माफी योजना लागू की है ताकि वाहन मालिक को इसका लाभ मिल सके.

इस वर्ष लॉकडाउन के कारण अप्रैल और मई माह में वाहनों के रजिस्ट्रेशन में काफी गिरावट देखी गयी, लेकिन जून में इसमें काफी तेजी आयी है. जून में 20 हजार और 16 जुलाई तक 66 हजार नए वाहनों की खरीददारी हुई है.



Source link

हमारा सोशल मीडिया

29,751FansLike
25,786SubscribersSubscribe

Must Read

कैसी हो पुलिस, समाज तय करे (हिन्दुस्तान)

टेलीविजन रेटिंग प्वॉइंट्स (टीआरपी) घोटाले की आंच अब उत्तर प्रदेश तक पहुंच गई है। राज्य सरकार की सिफारिश पर हजरतगंज (लखनऊ) पुलिस स्टेशन...

हास्यास्पद कार्रवाई (हिन्दुस्तान)

यह घटना जितनी दर्दनाक है, उसके बाद के घटनाक्रम उतने ही हास्यास्पद हैं। असम के लमडिंग रिजर्व फॉरेस्ट में 27 सितंबर को मालगाड़ी...

मदद और सम्मान मांगती ईमानदारी  (हिन्दुस्तान)

ऋण चुकाने में ईमानदारी को प्रोत्साहन देने की ऐतिहासिक शुरुआत होने जा रही है। केंद्र सरकार ने संकेत दिया है कि कोविड-19 के...

Related News

कैसी हो पुलिस, समाज तय करे (हिन्दुस्तान)

टेलीविजन रेटिंग प्वॉइंट्स (टीआरपी) घोटाले की आंच अब उत्तर प्रदेश तक पहुंच गई है। राज्य सरकार की सिफारिश पर हजरतगंज (लखनऊ) पुलिस स्टेशन...

हास्यास्पद कार्रवाई (हिन्दुस्तान)

यह घटना जितनी दर्दनाक है, उसके बाद के घटनाक्रम उतने ही हास्यास्पद हैं। असम के लमडिंग रिजर्व फॉरेस्ट में 27 सितंबर को मालगाड़ी...

मदद और सम्मान मांगती ईमानदारी  (हिन्दुस्तान)

ऋण चुकाने में ईमानदारी को प्रोत्साहन देने की ऐतिहासिक शुरुआत होने जा रही है। केंद्र सरकार ने संकेत दिया है कि कोविड-19 के...

विसंगतियों का चुनाव (हिन्दुस्तान)

विधानसभा चुनाव राज्यों के सिर्फ राजनीतिक रुझान का पता नहीं देते, वे उनके सामाजिक-सांस्कृतिक ताने-बाने, नागरिकों की राजनीतिक जागरूकता और आर्थिक हालात से...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here